1955 - 1960

देशद्रोह का मुकदमा

Africa Media Online

गंभीर राजद्रोह के आरोपी 156 दक्षिण अफ़्रीकी

26 जून, 1955 को क्लिपटाउन में कांग्रेस ऑफ़ द पीपल द्वारा फ़्रीडम चार्टर को अपनाए जाने पर दक्षिण अफ़्रीका की रंगभेदी सरकार का जवाब देशद्रोह के मुकदमे के रूप में सामने आया था. 

रंगभेदी सरकार द्वारा गिरफ़्‍तार किए गए 156 लोगों में उस समय के अफ़्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष, चीफ़ एल्बर्ट लुथुली, नेल्सन मंडेला और वॉल्टर सिसुलु शामिल थे. 

अफ़्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस, लोकतांत्रिक कांग्रेस, दक्षिण अफ़्रीकी भारतीय कांग्रेस, कलर्ड पीपल्स कांग्रेस और दक्षिण अफ़्रीकी कांग्रेस व्यापार संघ सहित कांग्रेस सहयोगी दलों के सभी नेताओं पर मुकदमा चलाया गया.

दक्षिण अफ़्रीका की सभी जातियों (रंगभेद की श्रेणी में: 105 काले, 21 भारतीय, 23 गोरे और 7 रंगपूर्ण लोग) के 156 प्रतिवादियों पर देशद्रोह का गंभीर आरोप लगाया गया, जिसके तहत मृत्युदंड दिया जाता था. हालांकि, प्रतिवादियों को "निर्दोष" घोषित किया गया, लेकिन बाद में कुछ लोगों को रिवोनिया मुकदमें में हिरासत में ले लिया गया.

प्रतिवादियों के बचाव में उतरे वकीलों के दल का नेतृत्व इज़राइल मैसेल्स द्वारा किया गया, जिनके साथ ब्रैम फ़िशर भी शामिल थे.  बिशप एम्ब्रोस, रीव्स, लेखक एलन पैटन और एलेक्स हेप्पल, एक मज़दूर संसद सदस्य, इंस्टिट्यूट ऑफ़ रेस रिलेशंस के डॉ. एलन हेलमैन और जुलियस फ़र्स्ट ने दक्षिण अफ़्रीकी देशद्रोह मुकदमा रक्षा निधि की स्थापना की थी. 

मुकदमे के एक अनियोजित परिणाम के रूप में रंगभेद विरोधी आंदोलन के नेताओं को एक-दूसरे के साथ महत्वपूर्ण समय बिताने का मौका मिला. इसके दूसरे परिणाम के रूप में, सबूतों के अभाव में बरी‍ किए गए ओलिवर टैंबू ने दक्षिण अफ़्रीका छोड़ दिया और बाहर से ही ANC की गतिविधि का संयोजन करने लगे. उन्होंने बाहर रहकर ही रंगभेद के विरुद्ध अंतर्राष्ट्रीय विचारधारा को बदलने में भूमिका निभाई.

मुकदमे के लिए पेशी पर आए वॉल्टर सिसुलु
नेल्सन मंडेला (बाएं से तीसरे) बस से पहुंचे
पुलिस संरक्षण में देशद्रोह का एक आरोपी लाया गया
जोहानेसबर्ग के ड्रिल हॉल के अंदर, जहां मुकदमा चलाया गया
देशद्रोह के आरोपी, जैसे कि ...वॉल्टर सिसुलु
...बर्था मशाबा
...जोई स्लोवो
...एनी सिलिंगा
...रूथ फ़र्स्ट
...हेलेन जोसेफ़
दोपहर के भोजनावकाश के दौरान नेल्सन मंडेला और अन्य लोग.
आरोपियों के समर्थन में आई भीड़
मुकदमे के दौरान पुलिस की उपस्थिति
पहले दौर का अंत - स्वस्थ रहने के लिए नेल्सन मंडेला, वकील, हर शाम ओरलैंडो के जेरी मोलोई के बॉक्सिंग जिम में जाते थे. यहां वे पेशेवर फेदरवेट मोलोई (दाएं) के साथ मुक्केबाजी का अभ्यास करते थे.
आभार: कहानी

Photographs — Baileys African History Archive
Text — Baileys African History Archive and Africa Media Online 

क्रेडिट: सभी मीडिया
कुछ मामलों में ऐसा हो सकता है कि पेश की गई कहानी किसी स्वतंत्र तीसरे पक्ष ने बनाई हो और वह नीचे दिए गए उन संस्थानों की सोच से मेल न खाती हो, जिन्होंने यह सामग्री आप तक पहुंचाई है.
Google अनुवाद करें
मुख्यपृष्ठ
एक्सप्लोर करें
आस-पास
प्रोफ़ाइल