1999 - 2008

नेल्सन मंडेला युवा लोग

Nelson Mandela Centre of Memory

“...नौजवान लोगों को स्वयं ये ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए कि वे संभव उच्च शिक्षा प्राप्त करें ताकि वे भविष्य के नेता के रूप में ठीक से हमारा प्रतिनिधित्व कर सकें. ”

नेल्सन मंडेला का हमेशा यह मानना था कि युवा ही वह नींव हैं जिनसे भविष्य का निर्माण होता है. उन्होंने मुक्ति के मुख्य साधन के रूप में शिक्षा को प्रोत्साहन देने पर बल दिया.

1999 के बाद उनके अधिकांश परोपकारी कार्य दक्षिण अफ़्रीका एवं विश्व भर के युवाओं की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर निर्दिष्ट किए गए थे – और ये कार्य मुख्य रूप से उनके पुराने संगठन नेल्सन मंडेला बाल कोष, नेल्सन मंडेला फाउंडेशन, मंडेला रोड्स फाउंडेशन और नेल्सन मंडेला स्मृति केंद्र के माध्यम से किए जा रहे थे.

1990 में जेल से अपनी रिहाई के बाद, बच्चों और युवाओं के प्रति उनका विशेष आकर्षण देखने को मिला, बच्चों के साथ उनका समय आनंदपूर्ण बीतता था और वे अपने सहज हास्य और विनोदप्रियता से उन्हें अपनी ओर आकर्षित रखते थे.

कॉमिक्स में मंडेला. दुनिया भर के युवाओं के लिए एक संसाधन के रूप में नेल्सन मंडेला के जीवन पर चार भागों में एक फिल्म बनाई गई है, जो उनके बचपन से शुरू होती है.
बड़ा शहर
कैदी
राजनेता

श्री मंडेला के जीवन के चुनिंदा मुख्य क्षणों से बनी फ़िल्म नेल्सन मंडेला सेंटर ऑफ़ मेमोरी और उम्लांडो वेज़िथोम्बे पब्लिशिंग के बीच का एक सहयोग है.

इस फ़िल्म की उपलब्धता के बाद श्री मंडेला के बारे में आठ कॉमिक पुस्तकों और ग्राफ़िक नॉवेल का निर्माण हुआ. उसमें पूर्वी केप में उनके बचपन से लेकर उनके राजनैतिक सक्रियावाद, कारावास और बाद में दक्षिण अफ़्रीका के पहले प्रजातांत्रिक ढंग से चुने गए राष्ट्रपति के रूप में उनके अधिष्ठापन तक उनका पूरा जीवन शामिल है.

बच्‍चों की लॉन्ग वॉक टू फ़्रीडम: 2009 में नेल्‍सन मंडेला के प्रकाशक ने बच्चों के लिए उनकी आत्‍मकथा लॉन्ग वॉक टू फ़्रीडम का एक संस्‍करण प्रकाशित किया.

“रंगभेद की प्रथा ने कई बच्चों से उनका अच्छी शिक्षा का अधिकार और अध्ययन की खुशी छीन ली है. यह वो खुशी है जिसे मैने अपने संपूर्ण जीवन में ग्रहण किया और मैं चाहता हूं कि यह सभी दक्षिण अफ़्रीकी लोगों को मिले.”

प्रख्यात दक्षिण अफ़्रीकी लेखक क्रिस वेन वेक द्वारा रूपांतरित और पैडी बाउमा द्वारा की गई चित्र व्याख्या वाली किताब का उनके प्रपोत्र जियांडा मैनवे द्वारा अंतराष्ट्रीय सारक्षरता सप्ताह के प्रतीक के रूप में विमोचन किया गया.

उन्होंने विमोचन पर कहा, “हमारे दादा का यह मानना है कि शिक्षा और अध्ययन बच्चों के लिए दो सबसे महत्वपूर्ण चीज़ें हैं.” उसने श्री मंडेला का संदेश भी पढ़ा जिसमें लिखा था: “रंगभेद की प्रथा ने कई बच्चों से उनके अच्छी शिक्षा का अधिकार और अध्ययन की खुशी छीन ली है. यह वो प्रसन्नता है जिसे मैंने अपने संपूर्ण जीवन में ग्रहण किया और मैं चाहता हूं कि यह सभी दक्षिण अफ़्रीकी लोगों को मिले.”

प्रकाशक मैकमिलन ने इस किताब को सभी 11 आधिकारिक भाषाओं साथ ही साथ पुर्तगाली और अमरीकी अंग्रेजी भाषा में रिलीज़ किया.

ट्विंकल, ट्विंकल, लिटिल स्टार: नेल्सन मंडेला ट्विंकल, ट्विंकल, लिटिल स्टार का अपना स्वयं का संस्करण गा रहे हैं

नेल्सन मंडेला को विशेष रूप से बच्चे बहुत प्यार करते थे. विद्यालय, अस्पतालों और अन्य संस्थानों में उनके दौरे के दौरान, उनकी बच्चों के लिए गाने की आदत निश्चित रूप से बच्चों के दिल को छूती थी और उन्हें काफी प्रसन्नता होती थी.

अपने रिहाई के शुराआती वर्षों में, वे प्रायः नर्सरी के अपने स्वयं के संस्करण ट्विंकल, ट्विंकल, लिटिल स्टार को बच्चों के लिए गाया करते थे. समय के साथ यह एक परंपरा की तरह हो गया और जब भी वे गाना शुरू करते तो बच्चे बड़े ही उत्साह के साथ इसमें सम्मिलित हो जाते थे.

“मैं उन युवाओं की सराहना करता हूं जो अपने समुदाय और राष्ट्र के प्रति सरोकार रखते हैं, शायद इसलिए क्योंकि मैं भी अपने स्कूल काल से ही संघर्ष में शामिल रहा. ऐसे युवाओं के साथ हम यकीन से कह सकते हैं कि आज हम जिन आदर्शों का जश्न मना रहे हैं, वे कभी नष्ट नहीं होंगे. उत्तेजित किए जाने पर, युवा लोग अत्याचारियों का शासन खत्म करने और स्वतंत्रता के लिए झंडा बुलंद करने में समर्थ होते हैं . ”

दक्षिण-पूर्व कस्बों के युवा जेल पहुंचें

1976 के सोवेतो विद्रोह के बाद रॉबेन द्वीप और दक्षिण अफ़्रीका के अन्य जेल नए कैदियों – वे युवा जिन्होंने देश के इतिहास की इस ऐतिहासिक घटना के दौरान अपनी सहभागिता दी – से भर गए. सोवेतो पीढ़ी जिन्होंने रंगभेद वाली सरकार की सशस्त्र पुलिस का सामना किया, उन्हें मार दिया गया, उन्हें देशनिकाला दे दिया गया या पकड़ कर जेल में डाल दिया गया. इन उग्रवादी युवाओं ने उन्हें यह समाचार दिया कि मंडेला पीढ़ी के बाद से शासन ने रंगभेद नीति के विरोधियों को कुचल दिया था, अब वे पुनः जाग रहे हैं. आशा निकट थी. रंगभेद विरोधी ताकतें पुनः सशक्त हुईं. पुराने कैदी प्रेरित हुए.

नेल्सन मंडेला अफ़्रीकन नेशनल कांग्रेस यूथ लीग के संस्थापक सदस्य थे. वास्तव में वह ANC से तभी जुड़े थे जब 1944 में यूथ लीग की स्थापना हुई थी. यहां पर वे संगठन के गठन के बारे में बात करते हैं और साथ ही साथ अपनी स्वयं की कमियों के बारे में भी बेबाकी से अपने विचार रखते हैं: इसमें वह बताते हैं कि राजनैतिक वादविवाद और सम्मेलनों में भाग लेने से वे कितना घबराते थे.

ANC यूथ लीग

नेल्सन मंडेला बच्चों और युवा लोगों के प्रति अपने प्यार को लेकर बहुत प्रसिद्ध हैं और वह प्रायः यह बताते हैं कि बच्चे और युवा देश और संपूर्ण संसार के भविष्य के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं. यहां पर वह एक घटना का जिक्र करते हैं जो कारागार से उनकी रिहायी के तुरंत बाद हुई, जब वह कनाडा से आयरलैंड की यात्रा पर थे. वह 'कनाडा गूज़ बे' में थे जब उनकी उड़ान में केवल कुछ ही मिनट बाकी थे, उन्होंने निर्णय किया कि वह युवा लोगों के एक समूह से बातचीत करेंगे. संयोग से वे कनाडा इन्यूइट समुदाय के सदस्य थे और श्री मंडेला उनकी संस्कृति के बारे में अनभिज्ञ होने की वजह से शर्मिंदा हुए.

गूज़ बे

जैसा कि इस कहानी से पता चलता है कि नेल्‍सन मंडेला के लिए सम्‍मान बहुत महत्‍वपूर्ण है. वे लंदन की एक यात्रा के दौरान अस्‍वस्‍थ थे और उन्होंने अपने होटल के बाहर प्रतीक्षा कर रहे युवाओं से मिलना स्‍थगित कर दिया था. उन्‍हें उनकी मांग के आगे बाध्‍य होकर झुकना पड़ा, विशेषकर इसलिए कि उन्‍होंने उन्‍हें ऑटोग्राफ़ देने का वचन दिया था. युवा घंटों बारिश में खड़े ब्रिटिश प्रधानमंत्री के घर से उनकी वापसी की प्रतीक्षा करते रहे. उन्‍होंने उनके सम्‍मान के पहलू को आज़माया और वांछित चीज़ हासिल कर ली.

हस्ताक्षर खोजी
आभार: कहानी

Photographer — Ardon Bar-Hama
Photographer — Matthew Willman
Photographer — Debbie Yazbek
Photographer — Benny Gool
Animation — Umlando WeZithombe
Research & Curation — Nelson Mandela Centre of Memory Staff

क्रेडिट: सभी मीडिया
कुछ मामलों में ऐसा हो सकता है कि पेश की गई कहानी किसी स्वतंत्र तीसरे पक्ष ने बनाई हो और वह नीचे दिए गए उन संस्थानों की सोच से मेल न खाती हो, जिन्होंने यह सामग्री आप तक पहुंचाई है.
Google अनुवाद करें
मुख्यपृष्ठ
एक्सप्लोर करें
आस-पास
प्रोफ़ाइल