लोहारों की मूल कारीगरी

Dastkari Haat Samiti

राजस्थान के लोहारों के बनाए हुए पारंपरिक सामान

Metal Craft: Artisan family with their cart, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti
गडिया लोहार, उत्तर भारत में लोहारों का एक समुदाय है. इस समुदाय के लोग हमेशा यात्रा करते रहते हैं. यह समुदाय मूल रूप से राजस्थान से है. इन्हें इनकी सजी हुई गाड़ी से पहचाना जा सकता है. यही गाड़ी इनका घर भी होती है और एक जगह से दूसरी जगह जाने का ज़रिया भी. ये पारंपरिक लोहार बर्तन, खेती के औज़ार, और गावों में रोज़मर्रा में इस्तेमाल होने वाली दूसरी चीज़ें बनाते हैं. इस तरह ये स्थानीय बाज़ारों की ज़रूरतों को पूरा करते हैं.
Metal Craft: New markets, 2014, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti
आज भी इस बाज़ार में दूसरी चीज़ों के साथ-साथ, हाथ से बनी कढ़ाई, तवे, और आम तौर पर इस्तेमाल होने वाले औज़ार, जैसे कि कुदाल और हंसिया मिलते हैं.
Metal Craft: Metal artisans at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti
गाडिया लोहार समुदाय के बनाए गए पारंपरिक उत्पाद
Metal Craft: Metal artisans at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

बाज़ार से खरीदी गई लोहे की शीट से उत्पाद बनाता लोहार.

Metal Craft: In the blacksmith's workshop, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

लोहार कच्चा माल यानी लोहे को बाज़ार से खरीदते हैं. अगर लोहा शीट के रूप में नहीं है, तो इससे अशुद्धियां निकालने के लिए लोहे को कभी-कभी गर्म करना पड़ता है.

Metal Craft: Metal artisans at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

गर्म लोहे को चिमटे (चुटकी) से पकड़ा जाता है और मनचाहा आकार देने के लिए उसे निहाई (कुंदल) पर रखकर हथौड़े से पीटा जाता है.

Metal Craft: Metal artisans at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

कारीगर और उनका परिवार साथ मिलकर अपनी वर्कशॉप में काम करते हैं.

Metal Craft: Metal artisan at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

लोहे के टुकड़े को भट्टी में गर्म किया जाता है.

Metal Craft: Metal artisans at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

भट्टी में ब्लोअर का इस्तेमाल होता है. इसमें गर्म हवा देने के लिए एक पंखा लगा होता है जिसे घुमाने के लिए साइकिल के पहिये का इस्तेमाल होता है.

Metal Craft: Metal artisan at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

लोहे के गर्म टुकड़े को आकार में ढालने के लिए हथौड़े से पीटता कारीगर.

Metal Craft: Metal artisans at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

जब एक कारीगर गर्म लोहे को हथौड़े से पीटता है, तो दूसरा उसे सीधा रखने के लिए पकड़कर रखता है.

Metal Craft: Metal artisan at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

लोहे की पट्टी से बर्तन का हैंडल बनाता कारीगर.

Metal Craft: Metal artisan at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

लोहे की पट्टी से बर्तन का हैंडल बनाता कारीगर.

Metal Craft: Metal artisan at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

ध्यान लगाकर बर्तन का हैंडल बनाता कारीगर.

Metal Craft: Metal artisan at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

लोहे को हथौड़े से पीटकर मनचाहे आकार में ढालने से पहले, उसे लाल होने तक गर्म किया जाता है.

Metal Craft: In the blacksmith's workshop, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

पारंपरिक उत्पादों में, गांव के घरों और खेती में इस्तेमाल होने वाली चीज़ें शामिल हैं.

Metal Craft: The blacksmith's wares, 2017-10, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

खेती में इस्तेमाल होने वाला पारंपरिक औज़ार जिसे लोहे से बनाया गया है.

Metal Craft: In the blacksmith's workshop, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

चिमटे जैसे कुछ उत्पादों को स्थानीय बाज़ार में बेचा जाता है.

Metal Craft: Metal artisans at work, 2017-08, इनके संग्रह से लिया गया है: Dastkari Haat Samiti

राजस्थान के धातु कारीगरों के बारे में यहां और जानें:

- लघु धातु कारीगरी
- गाडिया लोहारों का समुदाय
- गाडिया लोहारों की नई खोज

दस्तकारी हाट समिति
आभार: कहानी

क्रेडिट: कहानी
टेक्स्ट: आलोका हिरेमथ, जया जेटली, और प्रेमा दत्ता
फ़ाेटोग्राफ़ी: सुलेमान मर्चेंट और चारु वर्मा
कारीगर: हनुमान लोहार और हज़ारी लाल
ग्राउंड फ़ैसिलिटेटर: चारु वर्मा और अलोका हिरेमथ
वीडियो: सुलेमान मर्चेंट
क्यूरेटर: रुचिरा वर्मा

क्रेडिट: सभी मीडिया
कुछ मामलों में ऐसा हो सकता है कि पेश की गई कहानी किसी स्वतंत्र तीसरे पक्ष ने बनाई हो और वह नीचे दिए गए उन संस्थानों की सोच से मेल न खाती हो, जिन्होंने यह सामग्री आप तक पहुंचाई है.
मुख्यपृष्ठ
एक्सप्लोर करें
आस-पास
प्रोफ़ाइल