गुप्त कलाओं से रक्षा

The British Library

दुनियाभर की संस्कृतियों में, बुरी शक्तियों के ख़िलाफ़ ढाल के रूप में जादू का इस्तेमाल किया जाता है. तावीज़ अपने मालिक को काले जादू से बचाता है और 'बुरी नज़र' (किसी जादूगर की नज़र से लगने वाला श्राप) से दूर रखने की कोशिश करता है. नरभेड़िया, कप्पा और कालदृष्टि जैसे कई गुप्त प्राणियों से बचना भी बहुत ज़रूरी है.

‘“तुम सबको मुझे एक निबंध लिख कर देना है कि नरभेड़ियों को कैसे पहचाना और मारा जाता है.”’
प्रोफ़ेसर स्नेप, हैरी पॉटर और अज़्काबान का कैदी

प्रोफ़ेसर ल्यूपिन
हॉगवर्ट्स में हैरी पॉटर के तीसरे साल में रीमस ल्यूपिन गुप्त कलाओं से रक्षा विषय पढ़ाते थे. विद्यार्थियों को पता नहीं था कि वे असल में एक नरभेड़िया थे, जो हर पूर्णिमा पर अपना रूप बदल लेते थे.

'जिम के' की पेंसिल ड्राइंग में ल्यूपिन के बाल सफ़ेद हैं और उनकी आँखों के नीचे काले घेरे दिख रहे हैं. उनके पीछे शेल्फ़ पर चांद का एक पोस्टर लटका हुआ है.

इंसान खाने वाले नरभेड़िये
एक धर्मगुरु जोहान गेलर वॉन केसर्सबर्ग ने नरभेड़ियों पर एक उपदेश दिया, जिसे डाई एमीस (दी आंट्स) नाम की किताब में प्रकाशित किया गया था. गेलर ने नरभेड़ियों के हमला करने के सात कारण बताए. उन्होंने कहा कि वे खासकर बच्चों को खाना पसंद करते हैं

और उन्होंने बताया कि नरभेड़िये की उम्र क्या है और उसे इंसानों का मांस खाने का कितना अनुभव है, इसके आधार पर उनके हमला करने के आसार तय होते हैं.

द ट्रिक्सी स्फ़िंक्स
एडवर्ड टॉप्सल की द हिस्टरी ऑफ़ फ़ोर फ़ुटेड बीस्ट्स जानवरों (असली और काल्पनिक दोनों) के बारे में अंग्रेज़ी में प्रकाशित होने वाली पहली किताब थी. स्फ़िंक्स पर लिखे गए

इस चैप्टर में, टॉप्सल ने एक 'भयंकर लेकिन काबू किए जा सकने वाले … बंदर जैसे शरीर वाले' जानवर के बारे में बताया है. कम ही लोगों को पता है कि स्फ़िंक्स अपने गालों में खाना जमा कर सकता है — बिल्कुल गिनी पिग की तरह!

कप्पा
कप्पा एक काल्पनिक प्राणी है जिसका नाम जापानी शब्दों 'कवा' (नदी) और 'वाप्पा' (बच्चा) को मिलाकर रखा गया है. अकामस्तु सोतन के मुताबिक, टोन नदी को निनाको कप्पा का घर माना जाता था. इसका नक्शा यहां दिया गया है. कप्पा इंसानों को धोखे से पानी में ले जाने के लिए जाने जाते थे. जालीदार पंजों और पपड़ीदार त्वचा के साथ निनाको कप्पा ने हर साल जगह बदली, जिससे वह जहां भी गया वहां उथल-पुथल मच गई.

‘कप्पा पानी में रहने वाला एक जापानी शैतान है. वह कम गहराई वाले तालाबों और नदियों में रहता है. ऐसा कहा जाता है कि यह फ़र के बजाय मछली जैसी त्वचा के साथ किसी बंदर जैसा दिखता है. इसके सिर के ऊपर पानी से भरा एक छेद होता है.’ - फ़ैंटास्टिक बीस्ट्स एंड वेयर टू फ़ाइंड देम

सांप का जादू
लंबे समय से सांपों को जादुई प्राणी माना जाता रहा है. वे अपनी खाल उतार सकते हैं और उसे वापस उगा सकते हैं, इसलिए उन्हें खास तौर पर फिर से शुरुआत, पुनर्जन्म और इलाज से जोड़ा जाता है. कई संस्कृतियों में, सांपों को अच्छे और बुरे दोनों का प्रतीक माना जाता है. यह पतली छड़ी मज़बूत लकड़ी से बनी होती है, जिसे जादुई शक्तियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

यह पतली छड़ी मज़बूत लकड़ी से बनी होती है, जिसे जादुई शक्तियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

सांप को सम्मोहित करने वाला
सांप को सम्मोहित करते हुए एक 'जादूगर' की यह तस्वीर एक मध्य युग की बेस्टियरी (किताब) में मिलती है. इस लेख में इमोर्रारिस के बारे में बताया है, जो एक विषैला सांप है. इसके काटने से शिकार के शरीर से पसीने की जगह तब तक खून निकलता है, जब तक वो मर नहीं जाता.

इसे तभी पकड़ा जा सकता है, जब कोई जादूगर इसकी गुफ़ा में जाकर इसे सुलाने के लिए लोरी सुनाए. इससे सांप को सम्मोहित करने वाले जादूगर को विषैले सांप के माथे पर उगा हुआ कीमती पत्थर निकालने का मौका मिल जाता है, जिससे उस सांप की शक्तियां चली जाती हैं.

एक डच (नीदरलैंड के रहने वाले) दवाई बनाने वाले व्यक्ति के लिए यह किताब 'अल्बर्टस सेबा' तैयार की गई थी. एम्स्टर्डम के रहने वाले सेबा बंदरगाह के जहाज़ों के साथ कारोबार करते थे. वे खास प्राकृतिक नमूनों के बदले में दवाईयां बेचते थे.

सन् 1731 में उन्होंने कई कलाकारों को अपने संग्रह की तस्वीरें बनाने के लिए कहा, जिसमें यह जालीदार सांप भी शामिल था. दुनिया का सबसे लंबा यह सांप मूल रूप से दक्षिण-पूर्वी एशिया में पाया जाता है.

‘उसे डर लगा कि यह एक बहुत बड़ा सांप था, जो कम से कम बारह फ़ीट लंबा था.’
हैरी पॉटर और आग का प्याला

यह जादुई छड़ी 'बॉग ओक' लकड़ी से बनाई गई थी, जिसे सदियों तक कोयले में दफ़ना दिया गया था. इस छड़ी की शक्ति बढ़ाने के लिए इसे सांप से सजाया गया है.

सांप नई शुरुआत और बदलाव की क्षमता का प्रतीक है. उनकी 'कुंडलियां' उजाले और अंधेरे, इलाज और ज़हर, बचाव और विनाश के सिलसिले को दिखाती हैं.

‘जब कालदृष्टि उसका सामना करने के लिए मुड़ने लगा, तो उसका सिर नीचे आ रहा था, शरीर कुंडलियां बना रहा था और वह खंभों पर वार कर रहा था. हैरी उसकी आँखों के खाली कोटर देख सकता था, उसके मुंह को चौड़ा खुलता देख सकता था, जो इतना चौड़ा था कि उसे साबुत निगल सकता था. उसके दांत उसकी तलवार जितने ही लंबे थे. नुकीले, चमकीले, ज़हरीले …’
हैरी पॉटर और रहस्यमयी तहखाना

जिम के' का कालदृष्टि
रहस्यमयी तहखाने के लिए बनाई गई इस ध्यान आकर्षित करने वाली तस्वीर में , बड़े से कालदृष्टि को हैरी पॉटर के पीछे कुंडली बनाते हुए दिखाया गया है.


हैरी ने लाल मणि से सजी गौरव गरुड़द्वार की तलवार अपने हाथों में पकड़ रखी है, जो बीच हवा में लहरा रही है.

कालदृष्टि की भयानक पीली आँखें खून से सनी हुई हैं क्योंकि 'ज्वाला' नाम के फ़ीनिक्स ने अपने पंजों से उन्हें नोच दिया है.

कालदृष्टि का संक्षिप्त इतिहास
यह पर्चा अपने नाम कालदृष्टि का संक्षिप्त इतिहास के मुताबिक, सिर्फ़ दो पेज लंबा है. इसे जेम्स सल्गाडो ने लिखा था, जिन्होंने डच डॉक्टर से मिले एक कालदृष्टि को दिखाने के लिए रखा था.

सल्गाडो ने इस जानवर को पीला बताया है, जिसकी ताज जैसी कलगी होती है. इसका शरीर मुर्गे जैसा और पूंछ सांप जैसी होती है.

इस प्राणी को एक आदमी की हत्या करते चित्रित किया गया है.

कालदृष्टि से बचें
1595 में इटली में लिखी गई इस किताब में पौराणिक जानवरों के चित्रों की एक अनोखी सीरीज़ है. इसमें कालदृष्टि के बारे में बताया गया है, जो सिर्फ़ अपनी नज़र से ही किसी को भी मार सकता है. रोमन लेखक प्लिनी के मुताबिक, कालदृष्टि को केवल उसके बिल में नेवला छोड़कर ही मारा जा सकता है. नेवले की गंध कालदृष्टि के लिए खतरनाक साबित होती है, हालांकि लड़ाई में दोनों जानवरों को ही अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है.

इथियोपिया का जादू

अ बुक ऑफ़ मैजिक
गेज़ या क्लासिक इथियोपिक में लिखी गई इथियोपिया के जादू की इस किताब में रक्षक तावीज़, जंतर और सम्मोहनों के बारे में बताया गया है. यह किताब शायद किसी जादूगर या डीबेट्रा (तांत्रिक) की थी, जो एक धार्मिक विद्वान था.

ये तस्वीरें तावीज़ के स्क्रोल बनाने के काम में आई होंगी. इस जादुई चित्र में बुरी नज़र से बचाने के लिए आंख की तस्वीर पर ज़ोर दिया गया है.

तावीज़ के स्क्रोल
तावीज़ दुनियाभर में हज़ारों सालों से पहने जा रहे हैं. इस इथियोपियन स्क्रोल में मंत्रों का असर हटाने की प्रार्थनाओं के साथ ही जादुई चित्र भी हैं, जिन्हें बीमारियों का इलाज करने और शैतान भगाने के लिए बनाया गया था. चमड़े के क़ाग़ज़ पर लिखे गए ये स्क्रोल, या ब्रना केताब ('चमड़ी पर लिखे गए') के नाम से जाने जाते हैं.

इन्हें चमड़े के खोल या चांदी के डिब्बे में रखा जाता है और उन्हें घर पर लटकाने या गले में पहनने के लिए बनाया जाता है.

आभार: कहानी
क्रेडिट: सभी मीडिया
कुछ मामलों में ऐसा हो सकता है कि पेश की गई कहानी किसी स्वतंत्र तीसरे पक्ष ने बनाई हो और वह नीचे दिए गए उन संस्थानों की सोच से मेल न खाती हो, जिन्होंने यह सामग्री आप तक पहुंचाई है.
Google अनुवाद करें
मुख्यपृष्ठ
एक्सप्लोर करें
आस-पास
प्रोफ़ाइल